Operation Crime Alert
ब्रेकिंग न्यूज़
Other अंतरराष्ट्रीय अपराध ब्रेकिंग न्यूज़

कानपुर क्राइम ब्रांच ने किये इंटरनेशनल ठग हुए गिरप्तार- चौंकाने वाले खुले राज – कानपूर में बैठे ठगों ने अमेरिकन लोगों को तक को नहीं छोड़ा –

एक साल में ठगों ने अमेरिका के 12 हजार लोगों को करीब नौ लाख डॉलर लगाया चूना –

कानपुर -/नोयडा /दिल्ली कानपुर -(ऑपरेशन क्राइम अलर्ट ब्यूरो )कानपुर शहर में बैठकर अमेरिका के लोगों को चूना लगाने वाले ठगी गेंग महाशातिरों का पर्दाफास करने वाली कानपुर पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने जिन शातिर गिरोह को पकड़ा है, इनकी ठगी का तरीका सुनकर ब्रांच के सभी हैरान रह गए। इन शातिरों के गिरोह में पकड़े गए चार सदस्यों का अलग अलग नेटवर्क आपस में काम बांटा था। ये शतिर मोबाइल में वायरस भेजकर ठगी का तानाबाना बुनना शुरू करते थे। पुलिस की पूछताछ में कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं।
खुलासे में कानपुर क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तारी के बाद नोएडा निवासी मुनेंद्र शर्मा को अपने चार साथियों में फिरोजाबाद निवासी संसलिजीव, और प्रतापगढ़ निवासी जिकुरल्ला और बिहार निवासी सूरज सुमन से पूछताछ की तो कई चौंकाने वाली बातें सामने आईं। मुखिया कॉल सेंटर का मास्टरमाइंड मुनेंद्र शर्मा ने पुणे यूनीवर्सिटी से साॅफ्टवेयर इंजीनियरिंग की है और नोएडा का रहने वाला है।

मुनेंद्र ने कानपुर आकर गिरोह बनाया और कॉल सेंटर चलाने के लिए तीन युवाओं को तैयार किया-

साॅफ्टवेयर इंजीनियर होने के चलते मुनेंद्र खुद मोबाइल हैक करता था, जबकि बाकी तीन सदस्यों के अलग अलग काम तय थे। दो कॉल सेंटर पर अमेरिका से आने वाली कॉल रिसीव करके कस्टमर फंसाते थे तो तीसरा कंप्यूटर पर बैंक ट्रांजेक्शन से लेकर अन्य काम संभालता था।

शातिरों का तरीका ठगी मास्टर माइंड पढ़िए – चारों शातिर अंतराष्ट्रीय काल सेंटर से लोगों को बिल्कुल अलग अंदाज में फंसाते थे। किसी भी साइट पर ब्लिंक करने वाले विज्ञापन मसलन दस दिन में मोटापा घटाएं, पेट कम करें, घुटनों को मजबूत करें, लंबाई बढ़ाएं, झड़ने वाले बालों को रोकें आदि पर किसी मोबाइल धारक क्लिक कर देता या फिर धोखे से क्लिक हो जाता तो उसके मोबाइल पर मालवेयर अपलोड हो जाता था, जो एक तरह का वायरस होता है।
गौर करें ऐसे बार बार आता है मेसेज –
क्राइम ब्रांच ने उगलवाया कि एक बार मालवेयर सिस्टम में अपलोड होते ही बार-बार मोबाइल पर पाॅपअप मैसेज स्क्रीन पर आना शुरू हो जाते हैं, जिससे मोबाइल यूजर काफी परेशान हो जाता है। वह मोबाइल पर कोई भी ऑपरेशन ठीक से नहीं कर पाता है।

इस तरिके से ठगी का शिकार हुए अमेरिका में बैठे लोगों के साथ भी हुआ-
वायरस से बचने के लिए पॉपअप मैसेज के साथ आने वाले हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करते ही ठग गिरोह के जाल में शिकार फंस जाता था। कॉल आते ही गिरोह वायरस खत्म करने के साथ और एक साल तक सर्विस की बात कहकर डॉलर में चार्ज मांगते थे। यूजर बताए गए अकाउंट में रुपये ट्रांसफर कर देता था, इसके बाद उससे टेक सपोर्ट के लिए कुछ एप डाउनलोड करने के लिए कहा जाता था।
यूजर द्वारा एप डाउनलोड करते ही मोबाइल हैक कर लिया जाता था-
तरीका कितना शातिराना है गौर करें कि सर्विस के नाम पर बेचते थे प्लानमालवेयर हटाने और सर्विस देने के नाम पर काल सेंटर द्वारा प्लान बेचा जाता था, जो छह माह और एक साल के लिए होता था। सर्विस न मिलने पर पूरी रकम वापसी का भरोसा दिया जाता था। यहीं से शुरू होता था ठगी का खेल, अब जब कोई यूजर सर्विस अच्छी न होने की बात कहकर दी गई रकम वापस मांगता तो वह ठगी का शिकार हो जाता था। चूंकि कॉलर का मोबाइल पहले से हैक रहता था, जिससे गिरोह के शातिर रिमोट एक्सेस पर लेकर एकाउंट आदि की डिटेल के एचटीएमएल में जाकर कोडिंग चेंज कर देते थे।
अजब कारीगरी -यूजर को पता नहीं चल पाती थी ठगी
इन शातिरों का ढंग था कि अकाउंट की कोडिंग चेंज करके गिरोह के शातिर रकम वापसी का आनलाइन ट्रांजेक्शन का फर्जी मैसेज यूजर के फोन पर भेजते थे। इस मैसेज में वापस की जाने वाली रकम से कई गुना ज्यादा रकम दर्शा देते थे, जबकि हकीकत में कोई रकम ट्रांसफर हुई ही नहीं होती थी। वहीं यूजर को लगता था कि उसे सही में ज्यादा रकम वापस कर दी गई है।
एक साल में अमेरिका के 12 हजार लोगों को करीब नौ लाख डॉलर लगाया चूना –
ये कॉलर को फोन करके धोखे से ज्यादा रकम ट्रांसफर होने का झांसा देते थे तो यूजर सर्विस चार्ज को काटकर बाकी रकम दोबारा से कॉल सेटर से बताए गए अकाउंट में ट्रांसफर कर देता था, जोकि डॉलर में होती थी। इस तरह गिरोह ने पिछले एक साल में अमेरिका के 12 हजार लोगों को करीब नौ लाख डॉलर चूना लगाया है। कानपुर पुलिस अफसरों की मानें तो ठगी के शिकार हुए लोगों की संख्या ज्यादा भी हो सकती है, फिलहाल नौ लाख डालर के ट्रांजससेक्शन की बैंक स्टेटमेंट से डिटेल पुलिस को मिली है।

Related posts

Omicron: की दस्तक चन्डीगढ से हरियाणा पंजाब हिमाचल सतर्क – देश के दो और राज्यों में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की दस्तक, आंध्र-चंडीगढ़ में मिले केस – केंद्र सरकार हुई सख्त – भारत में अबतक 35 संक्रमित की पुष्टि

operationcrimealerteditor

सेना में भर्ती कराने वाला फर्जी डिग्री गेंग धऱ दबोचे – सीएसी सेंटर से मोटी रकम लेकर डिग्री भंडा फोड़ –

Operation Crime Alert

Elderly woman gets separated from family during Taj Mahal visit. How Agra Police helps her

cradmin

Leave a Comment